अंधकार से प्रकाश की ओर जो ले जाता है उसे गुरु कहते है:– धर्माचार्य ओम प्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास

प्रतापगढ़ सर्वोदय सद्भावना संस्थान द्वारा विगत वर्षों की भांति गुरु पूर्णिमा कोविड-19 का पालन करते हुए श्री संप्रदाय के भक्तों द्वारा मनाई गई। उक्त अवसर पर भगवान शालिग्राम का विधिवत पूजन अर्चन वेद मंत्रों के बीच संपन्न हुआ। महान भाष्यकार आद्य जगद गुरु यतिराज श्री रामानुजाचार्य का आचार्य गणों द्वारा वेद मंत्रों के मध्य पूजन अर्चन संपन्न हुआ। ऋग्वेद एवं अथर्व वेद की भी पूजा की गई।


इस अवसर पर रामानुज आश्रम के धर्माचार्य ओमप्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास ने कहा कि गु माने अंधकार रू माने प्रकाश जो अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है उसे गुरु कहते हैं। बालक की प्रथम गुरु मां होती है, बाद में वह अनेक शिक्षकों से अनेक विद्यालयों में अनेक उपाधियों की शिक्षा प्राप्त करता है उसे भी गुरु कहते हैं, किंतु सच्चा गुरु वह होता है जो जीव के कल्याण के लिए भगवान की शरण में ले जाकर उसे समाश्रित करके उसका कल्याण करता है। गुरु की महिमा अपरंपार है। गोसाई जी कहते हैं कि गुरु के नख का जो अग्रभाग है उसके सुमिरन करने से ही दिव्य दृष्टि की प्राप्ति हो जाती है। वेदों में उपनिषदों में पुराणों में गुरु की महिमा का विशेष वर्णन किया गया है। भगवान श्रीमन्नारायण के पुत्र ब्रह्मा उनके वशिष्ठ , वशिष्ठ के शक्ति तथा शक्ति के पाराशर और पाराशर के मत्स्यगंधा के गर्भ से व्यास जी ने आज ही के दिन आषाढ़ पूर्णिमा को अवतार लिया। इसलिए इसे व्यास पूर्णिमा भी कहते हैं। भगवान श्रीमन्नारायण का द्वापर में 28वें व्यास के रूप में अवतार हुआ।

आपकी मां काली थी और आपका भी रंग कृष्ण वर्ण का था इसलिए आपको कृष्णाद्वैपायन भी कहा जाता है। आप द्वारा वेद मंत्रों को चार भागों में विभक्त किया गया और 18 पुराणों की तथा जीवो के कल्याण के लिए श्रीमद्भागवत की रचना की गयी। आप सनातन धर्म के प्रथम संपादक हैं आपके ग्रंथों का लेखन का कार्य श्री गणेश जी ने किया। पूजन के पश्चात श्री रामानुज पंचांगम का भी वितरण किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से आचार्य आलोक ,नारायणी रामानुजदासी, आचार्य कमलेश तिवारी, डॉ अवंतिका पांडे आचार्य दीपक, आचार्य आनंद, आचार्य अनमोल महराज, रविशंकर मिश्रा गिरीश मिश्रा ज्ञानेशवर तिवारी सुदर्शन रामानुज दास, रामनरेश पांडे रामकृष्ण रामानुज दास सहित अनेक भक्त उपस्थित रहकर पूजन अर्चन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Covid Updates