भारत में 105 घंटे में बना 75 किलोमीटर लंबा बिटुमिनस कंक्रीट रोड वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने सड़क निर्माण के मामले में ऐसा विश्व कीर्तिमान बना दिया, जिसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया है। वाकयी यह पल देश के लिए गौरवान्वित महसूस करने का है।

किसी करिश्मा से कम नहीं

भारत की शीर्ष राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण एजेंसी ने महाराष्ट्र में अमरावती और अकोला के मध्य लगभग 105 घंटे या 5 दिनों से भी कम समय में 75 किलोमीटर लंबे राजमार्ग का निर्माण किया। यह अपने आप में किसी करिश्मा से कम नहीं।

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने की घोषणा

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने प्राधिकरण द्वारा बनाए गए नए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड की बुधवार को घोषणा की है। अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से एक वीडियो संदेश में उन्होंने कहा कि भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर और पीएम मोदी के घोषित आजादी का अमृत महोत्सव के तहत NHAI ने एक विश्व रिकॉर्ड बनाया है जिसे गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने प्रमाणित किया है।

 

आगे जोड़ते हुए उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के अमरावती से अकोला जिलों के बीच NH-53 पर एक ही लेन में 105 घंटे 33 मिनट में 75 किलोमीटर बिटुमिनस कंक्रीट बिछाने का रिकॉर्ड बनाया गया है। 75 किलोमीटर सिंगल लेन निरंतर बिटुमिनस कंक्रीट रोड की कुल लंबाई, 37.5 किमी टू-लेन पक्की शोल्डर रोड के बराबर है। उन्होंने बताया कि यह काम 3 जून 2022 को सुबह 7:27 बजे शुरू हुआ और 7 जून 2022 को शाम 5 बजे पूरा हुआ।

720 श्रमिकों ने दिन-रात किया काम

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इसमें 2,070 मीट्रिक टन बिटुमेन से युक्त 36,634 मीट्रिक टन बिटुमिनस मिश्रण का उपयोग किया गया है। उन्होंने बताया कि इस परियोजना को पूरा करने के लिए स्वतंत्र सलाहकारों की एक टीम सहित 720 श्रमिकों ने दिन-रात काम किया।

केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि इससे पहले, सबसे लंबे 25.275 किलोमीटर सड़क के लिए लगातार बिटुमिनस बिछाने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड था, जिसे फरवरी 2019 में दोहा, कतर में हासिल किया गया था। इस कार्य को पूरा होने में 10 दिन लगे थे।

कहां स्थित है यह सड़क ?

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि अमरावती से अकोला खंड एनएच 53 का हिस्सा है, यह एक महत्वपूर्ण गलियारा है जो कोलकाता, रायपुर, नागपुर और सूरत जैसे प्रमुख शहरों को जोड़ता है। उन्होंने कहा कि जब यह पूरा हो जाएगा तो यह खंड इस मार्ग पर यातायात और माल की आवाजाही को आसान बनाने में एक प्रमुख भूमिका निभाएगा।

उन्होंने यह भी कहा कि NHAI और राजपथ इंफ्राकॉन प्राइवेट लिमिटेड के सभी इंजीनियरों, ठेकेदारों, सलाहकारों, और कामगारों को परियोजना के कुशल कार्यान्वयन के लिए, जिन्होंने इस विश्व रिकॉर्ड को सफलतापूर्वक हासिल करने मदद की है, उन्हें बधाई दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.