बोल भोले की बम-बम से गुंजायमान हुई गंगा नगरी

रामघाट/संवाददाता : कस्बे में महाशिवरात्रि के दिन दूर-दराज से आए हजारों की संख्या में शिव भक्तों ने कस्बे के विभिन्न घाटों से अमृत समान गंगाजल को कावड़ में भरकर 11 मार्च को महाशिवरात्रि के दिन भगवान आशुतोष का जलाभिषेक करने के लिए बम-बम भोले के जयघोष के साथ गंतव्य स्थान को निकल रहे हैं। बम-बम भोले, भोले की बम से श्रद्धा की नगरी गुंजायमान हो रही है।

रामघाट के ननुआं चपरासी आश्रम में कावड़ सजाते शिव भक्त

हिंदू धर्म में महाशिवरात्रि पर्व का बहुत महत्व माना जाता है। वर्ष में फाल्गुन व श्रावण मास में महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। प्रदेश के पूर्वी क्षेत्र के लोगों में फाल्गुन मास में होने वाली महाशिवरात्रि का अधिक महत्व माना जाता है। इस दिन भगवान शिव के अनन्य भक्त अपने आराध्य देव आशुतोष की भक्ति के लिए अगाध श्रद्धा के साथ गंगा जल को कावड़ में भरकर जलाभिषेक करते हैं, ऐसा करने से भगवान शिव प्रसन्न होकर भक्तों पर कृपा की वर्षा करते हैं।

रामघाट में अलीगढ़, हाथरस, मथुरा के अलावा हरियाणा, राजस्थान आदि जनपदों के श्रद्धालु कई दिन पूर्व कस्बे के ननुआं चपरासी आश्रम पर रुकते हैं। आश्रम के महंत राकेश शर्मा व दीदी मनजीत कौर व आश्रम से जुड़े अन्य लोगों द्वारा आश्रम पर कावड़ियों के रुकने, पेयजल, प्रकाश, साफ-सफाई व दूर-दराज से आये कावड़ियों के लिए खाने-पीने, शौचालय व प्रकाश जैसे आदि की व्यवस्था की जाती है। कस्बे में लगने वाला विशाल कावड़ मेले की 1माह पूर्व प्रशासन द्वारा तैयारी की जाती है।

पुलिस प्रशासन द्वारा कावड़ियों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये जाते हैं। प्रशासन द्वारा शौच, पेयजल, सफाई, कावड़ियों को रुकने की व्यवस्था की जाती है। कस्बे में कावड़ मेला गंगा तट से रामघाट चौराहे तक कावड़ सजाने के सामानों की दुकानें सजी हुई है। शिव भक्तों के जत्थे गंगा स्नान कर सुंदर-सुंदर कावड़ को सजा कर कावड़ों पर तिरंगा लहराते हुए बोल भोले की बम व भारत माता के जयकारा लगाते हुए अपने गंतव्य स्थान को कूच कर रहे हैं। कावड़ियों के जत्थों में महिलाएं भी अधिक संख्या में कावड़ को कंधे पर सजा कर पुरुषों के साथ बड़ी उत्साह के साथ भोले की भक्ति में लीन होकर निकल रही है। भोले के जयकारों से क्षेत्र गुंजायमान होकर शिव भक्ति में लीन हो गया है।

कैमरामैन मोहित रावल के साथ
विवेक कुमार, (संवाददाता)

Leave a Reply

Your email address will not be published.