IIT के छात्रों का कमाल, मिट्टी के स्वास्थ्य का 90 सेकेंड में पता लगाएगी डिवाइस

किसानों की आय बढ़ाने के लिए इन दिनों मृदा स्वास्थ्य पर काफी ध्यान दिया जा रहा है। मिट्टी में किन-किन तत्वों की कमी है, या किनकी अधिकता है, इसकी जानकारी करना किसानों के लिए जानकारी के अभाव में एक समस्या बनी रहती है क्योंकि कई बार नजदीक में प्रयोगशाला नहीं मिलती। इसको देखते हुए कानपुर आईआईटी ने एक ऐसी डिवाइस बनाई है, जो महज 90 सेकेंड में मृदा के स्वास्थ्य की जानकारी दे देगी। इस डिवाइस को एग्रोनेक्स्ट कंपनी ने लांच कर दिया है और जल्द ही बाजारों में किसानों के लिए उपलब्ध होगी।

किसानों को जल्द मिलेगी डिवाइस

आईआईटी कानपुर के केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. जयंत कुमार सिंह के नेतृत्व में पल्लव प्रिंस, अशर अहमद, यशस्वी खेमानी और मोहम्मद आमिर खान की टीम ने पिछले वर्ष एक डिवाइस का आविष्कार किया। यह डिवाइस या यूं कहें कि इस भू-परीक्षक रैपिड मृदा परीक्षण को लांच करने के लिए आईआईटी ने एग्रीटेक कंपनी एग्रोनेक्स्ट से एमओयू किया। कंपनी ने किसानों के लिए बाजार में उपलब्ध कराने के लिए आईआईटी कानपुर के स्टार्टअप इनोवेशन एंड इंक्यूबेशन सेंटर (एसआईआईसी) नोएडा के सभागार में एक भव्य कार्यक्रम में इस डिवाइस को लांच कर दिया। अब यह डिवाइस जल्द ही किसानों को मिल सकेगी और किसान कम समय से आसानी से अपनी मृदा के स्वास्थ्य से संबंधित सभी जानकारी पा सकेंगे।

किसानों के लिए बहुत बड़ा वरदान

आईआईटी के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने कहा कि भू-परीक्षक उपकरण के साथ हमारा प्राथमिक उद्देश्य किसानों को उनकी मिट्टी के स्वास्थ्य के परीक्षण के मामले में राहत प्रदान करना है। यह एक ऐसा कार्य है, जो आमतौर पर उनके लिए बहुत कठिन होता है क्योंकि उन्हें घर से दूर प्रयोगशालाओं पर निर्भर रहना पड़ता है। हमें यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि अब जब डिवाइस को एक उत्पाद के रूप में लॉन्च किया गया है, तो यह हमारे किसानों के लिए उनकी मिट्टी के परीक्षण की परेशानी को कम करने के लिए एक बहुत बड़ा वरदान होगा।

इस तरह डिवाइस करेगी काम

निदेशक ने बताया कि यह अपनी तरह का पहला नया उपकरण है जो एक एम्बेडेड मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से केवल 90 सेकंड में मिट्टी के स्वास्थ्य का पता लगाने में सक्षम है। यह किसानों को प्रयोगशाला में जाये बिना उर्वरकों की अनुशंसित खुराक के साथ कृषि क्षेत्रों के मृदा स्वास्थ्य मानकों को प्राप्त करने में सहायता करेगा। यह डिवाइस नियर इन्फ्रारेड स्पेक्ट्रोस्कोपी तकनीक पर आधारित है, जो गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध भू-परीक्षक नामक एम्बेडेड मोबाइल एप्लिकेशन के साथ स्मार्टफोन पर रीयल-टाइम मृदा विश्लेषण रिपोर्ट प्रदान करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.