न्याय के मंदिर में सत्य की हुई जीत :- धर्माचार्य ओम प्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास

प्रतापगढ़,

प्रतापगढ़ आज राम मंदिर एवं बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचे के संबंध में सीबीआई अदालत द्वारा जो मुकदमा चलाया जा रहा था उसमें माननीय न्यायाधीश सुरेंद्र यादव द्वारा एक ऐतिहासिक फैसला दिया गया। आपने माना कि उस समय उस ढांचे को किसी पूर्व नियोजित योजना के तहत नहीं गिराया गया था, बल्कि वह आकस्मिक रूप से अचानक जनमानस ने आवेश में आकर के गिराया था जिन लोगों को उसमें मुलजिम बनाया गया था वह लोग कहीं से भी उसमें दोषी नहीं पाए जाते हैं ।

इस तरह न्याय की मंदिर में सत्य की जीत हुई। हम नमन करते हैं उन वीरगति प्राप्त हुए लोगों को जिन्होंने राम मंदिर के लिए संघर्ष किया बलिदान दिया। यह किसी के हार या जीत का प्रश्न नहीं है बल्कि भारतीय न्याय प्रणाली एवं लोकतांत्रिक प्रक्रिया की जीत हुई है।

इस संबंध में सेनानी ग्राम देवली में संत निवास पर लोगों को समाज सेविका 104 वर्षीय शारदा देवी रामानुज दासी पत्नी पंडित सूर्य बली पांडे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं लोकतंत्र रक्षक सेनानी ने लोगों को मिठाई बांट कर खिलाया। उन्होंने जनमानस से अपील किया के मुकदमे के आदेश को लोग शिरोधार्य करें। लोगों ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर शंखध्वनि के बीच प्रसन्नता व्यक्त किया। उस समय पं सूर्य कान्त शुक्ला चंद्रशेखर दत्त पांडे, विनय कुमार पांडे, प्रणव कुमार पांडे, विजय कुमार त्रिपाठी, देवी प्रसाद पांडे, राकेश कुमार, अशोक कुमार सिंह , यश पांडे, प्रबल महाराज, सहित अनेकों लोग उपस्थित रहे।

धर्माचार्य ओम प्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास

Leave a Reply

Your email address will not be published.