‘मन की बात’ में बोले पीएम मोदी, ड्रोन प्रौद्योगिकी में भारत को अग्रणी देश बनना है

पीएम मोदी ने आज मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ की 82वीं कड़ी में अपने विचार साझा किये। इस सन्देश में उन्होंने बीते अगस्त माह में घोषित नई ड्रोन नीति का उल्लेख करते हुए कहा कि भारत को ड्रोन प्रौद्योगिकी में अग्रणी देश बनना है। इसके लिए सरकार हर संभव कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले तक जब कहीं ड्रोन का नाम आता था तो लोगों के मन में पहला भाव सेना, हथियारों और युद्ध का आता था, लेकिन आज हमारे यहां कोई शादी-बारात के कार्यक्रम होते हैं तो हम ड्रोन से फोटो और वीडियो बनाते हुए देखते हैं। ड्रोन का दायरा, उसकी ताकत सिर्फ इतनी ही नहीं है।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत, दुनिया के उन पहले देशों में है, जो ड्रोन की मदद से अपने गांव में जमीन के डिजिटल रिकॉर्ड तैयार कर रहा है। भारत ड्रोन का इस्तेमाल ट्रांसपोर्टेशन के लिए करने पर बहुत व्यापक तरीके से काम कर रहा है।

स्थानीय उत्पाद खरीदने की अपील

इस दौरान पीएम मोदी ने ‘वोकल फॉर लोकल’ कैंपेन का हवाला देते हुए आगामी त्योहारों के मौसम में लोगों से स्थानीय उत्पाद खरीदने की अपील की। उन्होंने कहा कि आपको याद है न- खरीदारी मतलब ‘वोकल फॉर लोकल’। आप लोकल खरीदेंगे तो आपका त्योहार भी रोशन होगा और किसी गरीब भाई-बहन, किसी कारीगर, किसी बुनकर के घर में भी रोशनी आएगी। मुझे पूरा भरोसा है कि जो मुहिम हम सबने मिलकर शुरू की है, इस बार त्योहारों में और भी मजबूत होगी। आप अपने यहां के स्थानीय उत्पाद खरीदें, उनके बारे में सोशल मीडिया पर शेयर करें। अपने साथ के लोगों को भी बताएं।

सिंगल यूज प्लास्टिक से मु्क्ति और स्वच्छता को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि दीपावली पर हम सब अपनी घर की साफ-सफाई में तो जुटने ही वाले हैं। लेकिन इस दौरान हमें ध्यान रखना है कि हमारे घर के साथ हमारा आस-पड़ोस भी साफ रहे। उन्होंने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्ति की बात हमें कभी भी भूलना नहीं है।

भारत के सामर्थ्य को दर्शाता ये टीकाकरण कार्यक्रम

पीएम मोदी ने कहा कि 100 करोड़ कोरोना रोधी टीकाकरण कार्यक्रम की सफलता भारत के सामर्थ्य को दिखाती है। यह सबके प्रयास के मंत्र की शक्ति को दिखाती है। मैं अपने देश और यहां के लोगों की क्षमताओं से भली-भांति परिचित हूं| मैं जानता था कि हमारे स्वास्थ्यकर्मी देशवासियों के टीकाकरण में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि 100 करोड़ वैक्सीन डोज का आंकड़ा बहुत बड़ा जरूर है, लेकिन इससे लाखों छोटी-छोटी प्रेरक और गर्व से भर देने वाले अनेक अनुभव और उदाहरण जुड़े हुए हैं।

शहीद पुलिसकर्मियों के प्रति व्यक्त की संवेदना

पीएम मोदी ने पिछले सात वर्षों में महिला पुलिसकर्मियों की संख्या दोगुनी होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि वर्ष 2014 में जहां इनकी संख्या 1.5 लाख के करीब थी। वहीं 2020 तक इसमें दोगुने से भी ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है, अब यह संख्या अब 2.15 लाख तक पहुंच गई है। 21 अक्टूबर को हमने पुलिस स्मृति दिवस मनाया है। पुलिस के जिन साथियों ने देश सेवा में अपने प्राण न्योछावर किये हैं, इस दिन हम उन्हें विशेष तौर पर याद करते हैं। मैं आज अपने इन पुलिसकर्मियों के साथ ही उनके परिवारों को भी याद करना चाहूंगा, क्योंकि परिवार के सहयोग और त्याग के बिना पुलिस जैसी कठिन सेवा बहुत मुश्किल है।

बिरसा मुंडा के संघर्ष से मिली प्रेरणा

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में भगवान बिरसा मुंडा का स्मरण किया। उन्होंने भगवान बिरसा मुंडा के संघर्ष को याद करते हुए उन्होंने कहा कि जिस तरह अपनी संस्कृति, अपने जंगल, अपनी जमीन की रक्षा के लिय संघर्ष किया, वह कोई धरती आबा ही कर सकते थे। उन्होंने हमें अपनी संस्कृति और जड़ों के प्रति गर्व करना सिखाया। इस समय हम अमृत-महोत्सव में देश के वीर बेटे-बेटियों और महान पुण्य आत्माओं को याद कर रहे हैं। अगले महीने 15 नवम्बर को हमारे देश के ऐसे ही महापुरुष वीर योद्धा भगवान बिरसा मुंडा की जयंती है। भगवान बिरसा मुंडा को ‘धरती आबा’ भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है- धरती पिता।

जुड़िये हमारे साथ निम्न लिंक पर क्लिक करके ... व्हाट्सएप्प : https://chat.whatsapp.com/HtJHq7sLQpDALafWnz9qgJ टेलीग्राम : https://t.me/upexpressnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.