राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने किया दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्‍टेडियम ‘नरेंद्र मोदी स्टेडियम’ का किया उद्घाटन

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को गुजरात के मोटेरा में दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्‍टेडियम ‘नरेंद्र मोदी स्टेडियम’ का उद्घाटन किया। इस स्टेडियम में करीब 1.10 लाख लोगों के एकसाथ बैठने की क्षमता है। इस दौरान राष्ट्रपति कोविंद ने सरदार वल्लभ भाई पटेल स्पोर्ट्स एंक्लेव का भूमि पूजन भी किया। आपको बता दें कि यह स्‍टेडियम स्‍पोर्ट्स एंक्लेव का ही एक हिस्‍सा है। आज से नरेंद्र मोदी स्टेडियम में भारत और इंग्लैंड के बीच तीसरा टेस्ट मैच खेला जा रहा है।

कार्यक्रम के दौरान गृह मंत्री अमित शाह और खेल मंत्री किरेन रिजिजू भी वहां मौजूद रहे। खेल मंत्री किरेन रिजिनू ने इस दौरान कहा कि यह स्टेडियम 21वीं सदी का पहला आधुनिक स्टेडियम है।

वहीं कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, आज भारत के खेल जगत के इतिहास का स्वर्णिम दिन है। भारत के राष्ट्रपति के कर-कमलों से भारत के लोह पुरुष, भारत रत्न और गुजरात के सुपुत्र सरदार वल्लभभाई पटेल के नाम के साथ जोड़कर एक बड़े स्पोर्ट्स एंक्लेव के भूमि पूजन की शुरुआत राष्ट्रपति महोदय के हाथ से हुई है। इस स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स में देश और दुनिया के सभी खेलों के सभी खिलाड़ियों की ट्रेनिंग की विश्‍वस्‍तरीय व्यवस्था होगी। खिलाड़ियों के कोच को रहने की भी व्यवस्था होगी और एक साथ 3000 खिलाड़ी यहां पर अलग-अलग खेलों की ट्रेनिंग भी ले सकें इस प्रकार की व्यवस्था के लिए आज निर्माण और उसकी शुरुआत भूमिपूजन कर की गई है।

233 एकड़ भूमि में बनेगा स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स

गृह मंत्री ने कहा कुल स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स 233 एकड़ भूमि में बनेगा। इसके साथ नारायणपुरा में एक 18 एकड़ का एक नया स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स बनेगा। सरदार वल्लभभाई पटेल स्पोर्ट्स एंक्लेव, नरेंद्र मोदी स्टेडियम और नारायणपुरा में बनने वाला स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स तीनों को मिलाकर किसी भी अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धा में खेलने वाले सभी खेलों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने की पूरी व्यवस्था एक ही शहर में एक ही जगह पर हो जाएगी।

उन्होंने यह भी कहा कि तीनों के क्षेत्रफल को मिलाकर कुल 233 एकड़ भूमि पर कोई भी अंतर्राष्ट्रीय खेल स्पर्धा करनी है चाहे कॉमन वेल्थ गेम्स करने हो, चाहे एशियाड खेल करना हो या चाहे ओलम्पिक करना हो अहमदाबाद 6 महीने के अंदर तैयार होकर खड़ा हो जाए इस प्रकार का स्पोर्ट्स इंफ्रास्ट्रक्चर यहां पर बनने की शुरुआत हुई है।

अहमदाबाद भारत में स्पोर्ट्स सिटी के नाम से जाना जाएगा

स्पोर्ट्स इंफ्रास्ट्रक्चर के बनने के साथ ही अहमदाबाद भारत में स्पोर्ट्स सिटी के नाम से जाना जाएगा। पीएम मोदी ने यह सपना तब देखा था जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे। अमित शाह ने बताया कि 650 से ज्यादा स्कूलों को नरेंद्र मोदी स्टेडियम से जोड़ा जाएगा। अमित शाह ने कहा युगों-युगों तक सरदार पटेल का नाम अमर रहेगा। सरदार पटेल न होते तो हम बिखर जाते।

मोटेरा के नवनिर्मित क्रिकेट स्टेडियम का नामकरण नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम किया गया

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने अपने संबोधन की शुरुआत में कहा मोटेरा के नवनिर्मित क्रिकेट स्टेडियम जिसका आज से नामकरण नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम हो गया है। उसके उद्घाटन तथा सरदार वल्लभ भाई पटेल स्पोर्ट्स एंक्लेव के भूमि पूजन के अवसर पर प्रमुख रूप से उपस्थितगण “केम छो”

गुजराती भाषा में बोलते हुए राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा…

गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा निर्मित, “विश्व नां सौथी मोटा क्रिकेट स्टेडियम नुं उद्घाटन करी ने, मने खूब आनंद थयो छे। आ प्रसंगे हुं तमाम देशवासियों, अने खास करी ने, क्रिकेट चाहको ने, अभिनंदन पाठवुं छुं”

मोटेरा में निर्मित पहले क्रिकेट स्टेडियम के निर्माण के समय ज्ञानी जैल सिंह यहां आए थे

यह एक उल्लेखनीय सुखद संयोग है कि लगभग चार दशक पूर्व मोटेरा में निर्मित पहले क्रिकेट स्टेडियम के निर्माण के शुभारंभ के समय मेरे पूर्ववर्ती तत्कालीन राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह यहां आए थे। इस स्टेडियम निर्माण के पूर्ण होने तथा इसे राष्ट्र को लोकार्पित करने का सौभाग्य मुझे आज मिला। गुजरात सरकार द्वारा इसी परिसर में बनाए जाने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल स्पोर्ट्स एंक्लेव का भूमि पूजन कर भी मुझे बेहद खुशी हुई।

यह स्टेडियम विश्व में सबसे बड़ा होने के साथ- साथ सुविधाओं की दृष्टि से भी सर्वश्रेष्ठ

मुझे बताया गया है कि यह स्टेडियम विश्व में सबसे बड़ा होने के साथ- साथ सुविधाओं की दृष्टि से भी सर्वश्रेष्ठ है। इस अत्याधुनिक और भव्य स्टेडियम की परिकल्पना व निर्माण-योजना प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा तभी पूरी कर ली गई थी जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे। हम सभी देशवासियों के लिए गर्व की बात है कि 1 लाख 32 हजार दर्शकों की क्षमता के साथ मोटेरा का यह स्टेडियम आज विश्व का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम बन गया है। मुझे यह जानकारी दी गई है कि इस स्टेडियम में होने डे-नाइट मैचों के लिए एसईडी लाइटों से रोशनी करने की विशेष व्यवस्था की गई है। किसी भी अन्य स्टेडियम में इस्तेमाल हो रही लाइटिंग की तुलना में यहां लगभग आधी बिजली खर्च होगी। उर्जा का इतना किफायती व सक्षम उपयोग विशेष सराहनीय है। ग्रीन बिल्डिंग सर्टीफिकेशन की गोल्ड रेटिंग से युक्त यह स्टेडियम इको फ्रेंडली विकास का एक अच्छा उदाहरण भी है। यह स्टेडियम विश्व पटल पर अपनी मजबूत पहचान बनाने वाले आज के भारत की आकांक्षाओं और क्षमताओं को प्रदर्शित करता है।

भारत को पावर हाउस ऑफ क्रिकेट या हब ऑफ क्रिकेट कहा जाता है

भारत ने जो वर्चस्व क्रिकेट में हासिल किया है वह इस विश्वास को मजबूत करता है कि अन्य खेलों में ही नहीं बल्कि विकास के क्षेत्रों में भी हमारा देश विश्व में ऊंचा स्थान प्राप्त करने की क्षमता से परिपूर्ण है। भारत को ‘पावर हाउस ऑफ क्रिकेट’ अथवा ‘हब ऑफ क्रिकेट’ कहा जाता है। इसीलिए, यह सर्वथा उपयुक्त है कि विश्व का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम भी अब हमारे देश में ही है। अन्य खेलों की अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाओं में भी हमारे युवा बेहतरीन प्रदर्शन करने की क्षमता रखते हैं। इसके लिए जरुरी है कि हम क्रिकेट की तरह अन्य खेलों के लिए भी खिलाड़ियों को विश्व स्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध कराएं।

सरदार वल्लभभाई पटेल स्पोर्ट्स एनक्लेव स्पोर्ट्स इन्फ्रॉस्ट्रक्टर की दृष्टि से पूरे विश्व में एक नई पहचान दिलाएगा

मुझे पूरा विश्वास है कि आने वाले समय में ‘सरदार वल्लभभाई पटेल स्पोर्ट्स एनक्लेव’, अहमदाबाद शहर को स्पोर्ट्स इन्फ्रॉस्ट्रक्टर की दृष्टि से पूरे विश्व में एक नई पहचान दिलाएगा। केंद्र सरकार द्वारा पूरे देश में खेल की एक नई संस्कृति विकसित की जा रही है। ‘खेलो-इंडिया’ तथा ‘फिट-इंडिया’ जैसे अभियान देशवासियों में स्वास्थ्य तथा खेल-कूद के प्रति रुझान पैदा कर रहे हैं। ‘टार्गेट ओलम्पिक पोडियम स्कीम’ यानि TOPS जैसे कार्यक्रमों से खेल जगत में भारत की प्रभावशाली उपस्थिति दर्ज कराने के प्रयास किए जा रहे हैं। खेलों से जुड़ी आधुनिक सुविधाएं विकसित की जा रही हैं। खेल प्रतिभाओं की पहचान करके उन्हें विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

खेल सुविधाओं का विकास तो महत्वपूर्ण है ही, उससे भी अधिक महत्वपूर्ण यह है कि व्यापक स्तर पर प्रतिभाशाली खिलाड़ी इन सुविधाओं का लाभ उठा सकें। Facility तथा access to facility, दोनों ही जरूरी हैं। अच्छी खेल सुविधाएं और खेलों में उत्कृष्टता किसी भी देश के विकास का मापदंड भी होते हैं। आज शुरू होने वाले टेस्ट मैच के लिए मैं भारत व इंग्लैंड दोनों टीमों के सभी खिलाड़ियों को अपनी शुभकामनाएं देता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Covid Updates