अब तो ओटीपी भी नहीं मांग रहे हैकर, छोटी सी गलती और आपका खाता खाली, सतर्कता हेतु पढ़े

आजकल मोबाइल और इंटरनेट की दुनिया में सारे काम हमारे मोबाइल पर ही निर्भर हो गए हैं चाहे हम वह बैंक का काम करें या ऑफिस का या घर का। हमारे सभी काम यह मोबाइल ही कर रहा है यहां तक की हम पेमेंट भी मोबाइल से ही कर रहे हैं टेक्नोलॉजी इतनी तेजी से हम हमारे जीवन को आसान बना रही है उतना ही इससे होने वाले खतरे को भी दरकिनार नहीं किया जा सकता है। आजकल मोबाइल पर मैसेज के माध्यम से या फोन कॉल के माध्यम से अनचाहे कॉल आ रहे हैं और हम आसानी से उन्हें अपना डिटेल बता दे रहे हैं जिससे हमारे देश में बहुतायत संख्या में लोगों के खातों से पैसे निकाले जा चुके हैं या कह ले कि बहुत से लोग इसका शिकार हो चुके हैं।

इसलिए हम आपको एक कहानी के माध्यम से ठगी करने वाले लोगों से कैसे बचा जाए  आपको इसके बारे में बताने जा रहे हैं आप भी सतर्क रहें और लोगों को भी सतर्क करें। यही हमारी कोशिश है।
ज्ञात हो कि ग्राहकों के पैसों में सेंध लगाने के लिए ठगों ने फ्रॉड करने के लिए नए-नए तरीके अपनाने शुरु कर दिए हैं। साइबर क्राइम को अंजाम देने के लिए वो नए तरीके का इस्तेमाल करते हैं।

जाने कैसे हो रही है ठगी?

उदाहरण के तौर पर हम आपको समझाते है कि एक विजय नाम के एक 25 वर्षीय युवक ने शॉपिंग वेबसाइट से अपने लिए 25 हजार रुपये का फोन ऑर्डर किया. फोन को 5 दिन बाद डिलीवर होना था लेकिन विजय के पास 2 दिन पहले फोन आया और कॉल करने वाले व्यक्ति ने खुद को उस कंपनी का कस्टमर केयर बताया। इसके बाद उसने विजय को उसके सामान की डिटेल बताई और कहा कि उसे पता कंफर्म करना है। हालांकि, विजय पहले ही अपना पता शॉपिंग वेबसाइट पर डाल चुका था। इसलिए अब उस शक और ज्यादा हो गया कि यह किसी ठग का ही कॉल है। विजय ने बात जारी रखी और ठग ने कहा कि आपको एक लिंक भेजा जा रहा है उस पर क्लिक करके पता कंफर्म करना है। जब विजय ने उस पर क्लिक किया तो एक यूपीआई पेमेंट गेटवे खुल गया। इसमें उसके बैंक की डिटेल मांगी गई थी। विजय ने जब इसके बारे में ठग से पूछा तो उसने कहा कि पता कंफर्म करने के लिए विजय को पहले 1 रुपये की पेमेंट करनी होगी।  अगर बैंक डिटेल डाल दी जाती तो बैंक खाता खाली हो जाना तय था।

इसके बाद विजय ने उससे कहा कि वह समझ चुका है कि आप कोई कस्टमर केयर नहीं बल्कि एक ठग हैं साथ ही विजय ने उसे ये भी बताया कि उसने इस घटना की एक वीडियो बना ली है. और वह इसकी रिपोर्ट पुलिस में करेगा इतना सुनते ही ठग घबरा गया और वीडियो डिलीट करने की धमकी देने लगा। और तुरंत फोन काट दिया।

उपरोक्त विजय नाम काल्पनिक है हम आपको आसानी से समझा सके इसलिए एक कहानी के रूप में आपको बताने की कोशिश की है आप ऐसे अनचाहे कॉल से बचें और ऐसे फोन आपको आएं तो तुरंत रिपोर्ट करें और दूसरों को भी जागरूक करें ताकि देश में चल रहे ठगी से ज्यादा से ज्यादा लोगों को बचाया जा सके।

सीधे यूपीआई खाते को टारगेट
नए तरीके में बैंक से लिंक आपके यूपीआई खाते को टारगेट किया जा रहा है। कई लोगों के साथ हो चुके धोखाधड़ी या ठगी को आपके लिए भी जानना जरूरी है ताकि आप सतर्क हो जाए और इसका शिकार न हो। अगर कोई भी अनजान व्यक्ति आपसे फोन पर इस तरह का काम करने को कहे तो तुरंत फोन काट दें और नंबर को रिपोर्ट कर दें। इससे आप खुद को तो सुरक्षित तो करेंगे ही और भी लोगों की मदद कर पाएंगे।
क्या करें अगर इस तरह की स्थिति होती है तो

सबसे पहले तो आप उसको अपनी कोई डिटेल साझा ना करें। किसी भी तरह की ओटीपी ना दें और उनके द्वारा भेजे गए किसी लिंक पर क्लिक ना करें नंबर को रिपोर्ट करें तथा अपने आसपास के पुलिस थाने में इसकी सूचना अवश्य दें।

जैसे आरबीआई कहता है ना जानकार रहिए सुरक्षित रहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.